Gangster Ravi Gangwal Biography । गैंगस्टर रवि गंगवाल के बाप बनने का इंतज़ार पुलिस क्यों कर रही थी ? The Chanakya

6084
ravi-gangwal

एक मोस्ट वांटेड गैंगस्टर रवि गंगवाल (Ravi Gangwal) बाप बनने वाला था और उसके बाप बनने का इंतज़ार उससे ज्यादा पुलिस को था, लेकिन पुलिस की इस बेसब्री का कारण क्या था ? इस खबर में आपको पूरी कहानी बतायेंगे.

50000 के इनामी इस मोस्ट वांटेड गैंगस्टर को पकड़ने के लिए दिल्ली पुलिस की स्पेशल टीम पिछले तीन सालों से दिन रात एक कर रही थी और ये गैंगस्टर हर बार पुलिस को चकमा देकर भाग जाता था. आखिरकार 8 जून 2021 को उन्होंने वैशाली नगर जयपुर से उसे गिरफ्तार कर ही लिया.

जिस गैंगस्टर को पुलिस ने गिरफ्तार किया है उसका नाम है नरेन्द्र उर्फ़ रवि गंगवाल. दिल्ली यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट साउथ दिल्ली के इस कुख्यात गैंगस्टर पर हत्या, हत्या के प्रयास और लूटपाट के लगभग एक दर्जन मामले दर्ज हैं.

इसके गिरोह का काम है विवादित जमीनों पर कब्जा करना, रंगदारी वसूलना और सट्टे का धंधा चलाना. साउथ दिल्ली में  इन अवैध धंधों पर अपना वर्चस्व कायम रखने के लिए रवि गंगवाल और उसके विरोधी पंडित गैंग के बीच के गैंग वार चलती रहती है, इस गैंग वार में दोनों तरफ से कई बदमाश मारे जा चुके हैं.   

ये भी पढ़ें Gangster Durlabh Kashyap Biography in Hindi । गैंगस्टर दुर्लभ कश्यप के साथ उस रात क्या हुआ था

साल 2014 में जब रवि गंगवाल 26 साल का था, तो उसने विरोधी गैंग के आशु को मारने के लिए अंधाधुंध गोलिया बरसाई थी, जिसमे आशु की बहन की जान चली गयी थी. साल 2015 में जब वो तिहाड़ जेल में बंद था तो उसने जेल के भीतर ही अजय उर्फ़ छोटू की हत्या कर डाली थी और इस मर्डर के लिए उसने जेल में चम्मच को घिसकर नुकीला चाकू बना लिया था, उसने अपने एक साथी के साथ मिलकर इस ह्त्या की वारदात को अंजाम दिया था.

रवि ने अपने एक साथी की हत्या का बदला लेने के लिए विरोधी गैंग के एक बदमाश के पैरों को हथोड़े से कुचल डाला था.

साल 2017 में दीपक पंडित जेल में था और रवि गंगवाल जेल से बाहर था, उस समय रवि ने पंडित गैंग के मुखिया दीपक पंडित को मारने का प्लान तैयार कर लिया था. दीपक पंडित को मारकर रवि गंगवाल साउथ दिल्ली का सबसे बड़ा गैंगस्टर बनना चाहता था, उसका प्लान था कि जैसे ही दीपक पंडित जेल से बाहर आयेगा वो उसकी ह्त्या कर देगा, लेकिन वो अपने इस प्लान को अंजाम दे पाता उससे पहले ही पुलिस के हत्थे चढ़ गया था.  

साल 2018 में उसपर मकोका के तहत भी मुकदमा दर्ज हुआ था, इसके बाद से ही वो फरार चल रहा था.

नरेन्द्र उर्फ़ रवि गंगवाल ने पिछले तीन सालों से पुलिस की नाक में दम कर रखा था, वो लगातार पुलिस के साथ आँख मिचोली खेल रहा था. मुखबिर ने जब पुलिस को खबर दी कि रवि नॉएडा सेक्टर 128 में एक सोसायटी में छुपा है, तब  पुलिस ने वहा जाकर दविश दी तो मालूम चला कि वो बीस दिन पहले ही अपनी पत्नी के साथ वहाँ से भाग चुका है.

लेकिन अच्छी बात ये थी कि पुलिस को एक जानकारी और मिली, कि वो दिल्ली नंबर वाली नीले कलर की बलेनो कार लेकर गया है, इसके बाद उसकी बलेनो कार को सर्विलांस पर डाल दिया गया था.

उसे पकड़ने के लिए दिल्ली उत्तरप्रदेश राजस्थान और हरियाणा में कई जगह छापे मारी की गयी, लेकिन उसका कहीं कोई सुराग पुलिस के हाथ नहीं लगा. फरवरी महीने में एक दिन पता चला कि राजस्थान ट्राफिक पुलिस ने जयपुर के पास उस कार का चालान किया है.

गैंगस्टर रवि गंगवाल (Ravi Gangwal) के बाप बनने का इंतज़ार पुलिस क्यों कर रही थी

इस जानकारी के मिलते ही तुरंत एक टीम जयपुर के लिए रवाना कर दी गयी. इसी दौरान मुखबिर ने पुलिस को एक अहम् खबर और लाकर दी और वो ये कि रवि गंगवाल की पत्नी प्रेगनेंट है और जल्दी ही उसकी डिलीवरी होने वाली है.

अब पुलिस के पास दो जानकारियाँ थी एक तो दिल्ली नंबर की बलेनो कार और दूसरी ये कि गैंगस्टर की पत्नी बहुत जल्दी बच्चे को जन्म देने वाली है. अब रवि गंगवाल से ज्यादा बेसब्री से पुलिस उसके बाप बनने का इंतज़ार कर रही थी. इन दोनों सूचनाओं के आधार पर उसकी तलाश तेज कर दी गयी.

स्पेशल टीम को पता था कि कार की डिटेल्स और बच्चे के जन्म से सम्बंधित जानकारी के आधार पर वे रवि गंगवाल तक जरूर पहुँच जायेंगे.

मई के महीने में एक पक्की खबर पुलिस के हाथ लगी कि गैंगस्टर रवि गंगवाल की पत्नी ने अप्रेल में एक बच्चे को जन्म दिया है, इसके बाद पुलिस टीम ने जयपुर फरीदाबाद और दिल्ली में बच्चों के जन्म से सम्बंधित रिकार्ड्स खंगालने शुरू किये तो पता चला कि गैंगस्टर के बच्चे की डिलीवरी जयपुर में वैशाली नगर के एक अस्पताल में हुई है.

इसके बाद एक टीम को आसपास के इलाके में रवि की तलाश में लगा दिया गया. कुछ हफ्तों तक दिन रात एक करने के बाद आखिरकार पुलिस ने उसकी बलेनो कार को ढूंढ निकाला और 8 जून 2021 को सुबह साढ़े ग्यारह बजे जब रवि बाज़ार से कुछ सामान खरीदने के लिए निकला तो पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया.

आखिर कार इस कुख्यात गैंगस्टर का पुलिस के साथ आँख मिचोली का ये खेल ख़त्म हुआ और रवि गंगवाल फिर से जेल पहुँच गया.

इस ख़बर के बारे में अपनी राय कमेंट करके जरूर बताइयेगा और ऐसी ही अपराध की सच्ची कहानियों के लिए हमारे YouTube चैनल The Chanakya को सब्सक्राइब कर लीजिये और हमारे फेसबुक पेज को like करें.