Crime Khabar Weekly | क्राइम ख़बर साप्ताहिक | अपराध की 4 बड़ी ख़बरें

1453
crime-khabarweekly

(Crime Khabar) क्राइम ख़बर की आज की इस पोस्ट में आप जानेंगे अपराध की चार ऐसी खबरों ले बारे में  जो भले आपको किसी बड़े न्यूज़ पोर्टल पर दिखाई न दें लेकिन उन्हें जानना आपके लिए बेहद जरूरी है

  • क्या हुआ जब एक वकील ने महिला को ब्लैकमेल किया और बदले में मांग लिए एक करोड़ दस लाख रूपए ?
  • क्यों एक भाई ने ले ली अपने ही छोटे भाई की जान ? हत्या का कारण आपको सोचने पर मजबूर कर देगा !
  • मास्क नहीं लगाने पर एक युवक के हाथ और पैर में कील ठोकने वाली पुलिस कहाँ की है ?
  • एक जाने माने डॉक्टर की जान लेने के बाद क्यूँ दिए गए बिजली के झटके ?

(Crime Khabar) क्राइम ख़बर में सबसे पहले बात करते हैं ब्लैकमैलिंग की ! 

एक वकील अपने दो साथियों के साथ मिलकर एक महिला को ब्लैक मेल कर रहा था, उसने महिला से एक करोड़ १० लाख रूपए की मांग की थी, महिला ने पुलिस में शिकायत दर्ज की और क्राइम ब्रांच ने तीनो को धर दबोचा !

मामला कानपुर के बिठूर थाने का है, असल में हुआ ये था कि कुछ महीने पहले राजा यादव नाम के एक बडे सटोरिये को जेल हुई थी, उसे डर था कि उसकी अवैध संपत्तियों के दस्तावेज अगर पुलिस को मिले तो सम्पत्ती जब्त हो जायेगी, इसी डर की वजह से उसने कागजात छुपा दिए थे !

यही दस्तावेज उसके एक परिचित वकील राम प्रकाश के हाथ लग गए, उसे पता था कि संपत्ति बेनामी हैं इसीलिये उसने दस्तावेज बापस करने के लिए हर एक प्रॉपर्टी के १० लाख के हिसाब से ११ प्रॉपर्टी के एक करोड़ १० लाख रुपये राजा यादव की पत्नी से मांग लिए !

महिला ने क्राइम ब्रांच को सूचना दे दी और जब ये वकील साहब अपने दो चेलों के साथ पैसे लेने पहुंचे तो क्राइम ब्रांच की टीम ने तीनो को दबोच लिया  

दूसरी (Crime Khabar) क्राइम ख़बर है उत्तर प्रदेश के एटा से जहाँ  एक बड़े भाई ने अपने ही छोटे भाई की हत्या कर दी और ह्त्या करने का जो मकसद उसने बताया वो सोचने पर मजबूर करता है  ! 

एटा जिले के फरेंदा गाँव में बीस साल के जतिन की हत्या कर दी गयी ! जतिन के पिता ज्वाला प्रसाद ने गाँव के ही तीन लोगों पर बेटे की हत्या का आरोप लगाया और पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार भी कर लिया, लेकिन जब पुलिस ने इस मामले में जांच की तो उन तीनो के खिलाफ कोई सबूत उन्हें नहीं मिला !

इसके उलट जांच के बाद पुलिस ने जिस व्यक्ती को सबूतों के आधार पर गिरफ्तार किया उसका नाम है राम अवतार !

राम अवतार मृतक जतिन का सगा भाई है और ज्वाला प्रसाद का सगा बेटा ! राम अवतार ने अपने साले और दो अन्य के साथ मिलकर जतिन की गोली मारकर हत्या करना कबूल किया है ! जब उससे पूंछा गया कि उसने अपने भाई की हत्या क्यों की तो उसने जो जबाव दिया उस पर हर माता पिता को मंथन करना चाहिए !

राम अवतार का कहना है कि उसके पिता ज्वाला प्रसाद का लगाव जतिन से ज्यादा था जबकि मुझको वे हीन भावना से देखते थे, अपने प्रति पिता की इस बेरुखी के चलते ही उसने अपने छोटे भाई की जान ले ली !

(Crime Khabar) क्राइम ख़बर में अब बात करते हैं मध्य प्रदेश के छतरपुर की यहाँ  शहर के जाने माने डॉक्टर नीरज पाठक अपनी पत्नी और बेटे के साथ लोकनाथ पुरम कॉलोनी में रह रहे थे

एक मई को डॉक्टर नीरज पाठक की मौत की खबर पुलिस को मिली और आठ मई को पुलिस ने डॉक्टर साहब की हत्या के आरोप में उन्ही की पत्नी ममता पाठक को गिरफ्तार कर लिया !

ममता पाठक शहर के महाराजा कॉलेज में कैमिस्ट्री की प्रोफ़ेसर हैं, उनपर पुलिस को पहले दिन से शक था ! पूंछताछ में प्रोफ़ेसर साहिबा ने खुलासा किया कि उसने एक विडियो देखा था जिसमे बताया गया था कि अगर किसी को जहर देने के बाद लाश को दो दिन तक पडा रहने दिया जाए तो पोस्ट मार्टम में जहर की पुष्टि नहीं होती ! इस विडियो को देखने के बाद उसने डॉक्टर नीरज को मारने की साजिश रची !

ये भी पढ़ें : बेटी ने बाप के साथ ऐसा क्यों किया ?

अपनी इसी साजिश के तहत डॉक्टर पाठक को ममता ने २९ अप्रेल के दिन खाने में जहर दे दिया, उनकी मौत की पुष्टि करने के लिए ममता ने बाद में डॉक्टर पाठक को करंट भी लगाया ! इसके बाद ममता अपने बेटे को लेकर झांसी चली गयी ! रास्ते में बेतवा नदी में उसने बिजली के एक्सटेंशन बोर्ड को फेंक दिया जिससे डॉ पाठक को करंट लगाया गया था और अपने प्लान के अनुसार एक मई को बापस आकर पुलिस को डॉक्टर साहब की मौत की सूचना दे दी !

लेकिन हत्या की वजह क्या थी ?

असल में डॉ नीरज पाठक और उनकी प्रोफ़ेसर पत्नी ममता पाठक के बीच पिछले ११ सालों से विवाद चल रहा था, इसके चलते दोनों एक साथ नहीं रहते थे ! सितम्बर २०२० में ही दोनों के बीच सुलह हुई थी और ममता अपने बेटे को लेकर डॉ पाठक के घर रहने आगई थी, लेकिन फिर भी दोनों के झगडे ख़त्म नहीं हुए थे यही कारण था की ममता ने ये साजिश रची !   

(Crime Khabar) क्राइम ख़बर में अब बात उस युबक की जिसके एक हाथ और एक पैर में कील ठोक दी गयी और उत्तर प्रदेश पुलिस पर ये गंभीर आरोप लगा है !

मामला बरेली जिले का है, यहाँ बारादरी थाना क्षेत्र में रहने वाले रणजीत के एक हाथ और एक पैर में कील ठोक दी गयी और रणजीत का आरोप है कि ये  अमानवीय हरकत उसके  साथ पुलिस ने की है  ! २५ मई रात १० बजे वो घर के बाहर बैठा था तभी बारादरी थाणे के तीन सिपाही वहाँ आए और उसके साथ बदसलूकी की फिर उसे पकड़कर थाने ले गए, वहाँ उसे बेरहमी से पीटा और उसके हाथ और पैर में कीलें ठोक दी ! रणजीत की मां शीला देवी ने २६ मई बुधवार को एसएसपी रोहित सजवाण के पास शिकायत कर पुलिस पर ये आरोप लगाया !

इसके उलट इस मामले पर पुलिस का कुछ और ही कहना है, एसएसपी रोहित सजवाण ने इस आरोप पर प्रतिक्रिया दी है कि रंजीत ने खुद ही कीलें ठोक ली हैं ! उनका कहना है कि वो बिना मास्क लगाए बाहर घूम रहा था और उसने पुलिस के साथ अभद्रता की थी, उस वजह से रणजीत के खिलाफ FIR दर्ज हुई थी जिसके बाद वो भाग गया था ! पुलिस उसके घर दबिश देने गयी तो गिरफ्तारी से बचने के लिए उसने ऐसा किया !

हमारा ये नया प्रयास आपको कैसा लगा कमेंट में जरूर बताइएगा और ऐसी ही अपराध की सच्ची कहानियों के लिए हमारे YouTube चैनल The Chanakya को सब्सक्राइब कर लीजिये और हमारे फेसबुक पेज को like करें  !