कैसे हुई थी पत्रकार पूजा तिवारी की मौत ?

2648

मध्यप्रदेश के इंदौर की रहने वाली एक जिंदादिल लड़की पूजा तिवारी अपनी पढाई पूरी करके सपनों को पूरा करने के लिए साल 2010 में दिल्ली पहुँच गयी I यहाँ उसने एक मीडिया कंपनी में बतौर रिपोर्टर नौकरी कर ली I साल २०१६ आते आते उसने कई संस्थानों में काम किया ! अप्रेल २०१६ में वो फरीदाबाद में रह कर एक वेब पोर्टल के लिए काम कर रही थी

इसके बाद खबर आई की 1 मई 2016 को देर रात पूजा ने अपने फ्लैट की पांचवीं मंजिल से कूद कर  आत्म हत्या कर ली !

अपनी मौत से छह महीने पहले पूजा ने सोशल साइट पर एक पोस्ट किया था, जिसमें उसने लिखा था कि ‘एक मशविरा चाहिए ख़ुदकुशी कर लूं या इश्क ?

जिस समय पूजा बिल्डिंग से गिरी , उस समय फ्लैट में हरियाणा पुलिस में इंस्पेक्टर पद पर तैनात पूजा का दोस्त अमित वशिष्ठ और पत्रकार दोस्त अमरीन मौजूद थे। पूजा, अमरीन और अमित तीनों एक ही फ्लैट में उसी बिल्डिंग में रह रहे थे जहां से पूजा ने ‌कूद कर अपनी जान दी थी।

इंस्पेक्टर अमित पूजा तिवारी

इंस्पेक्टर अमित ने 23 अप्रैल 2016 को ही पूजा को सेक्टर 46 स्थित सद्भावना अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर 509 में शिफ्ट कराया था

इंस्पेक्टर अमित कुमार ने अपने बयान में कहा था कि वह घटना के वक्त कमरे में था और पूजा से बातचीत कर रहा था। इसी दौरान वह कमरे से तेजी से निकली और बालकनी की ग्रिल से लटक गई । उसने बचाने की कोशिश की । उसे हाथ का सहारा दिया, लेकिन वह फिसल गई।

पूजा की दोस्त अमरीन खान ने कहा है कि अमित के आने के बाद वह सोफे से उठकर दूसरे कमरे में चली गई थी ।

बाद में अमित ने उसका दरवाजा खटखटाया और कहा कि पूजा ने बालकनी से छलांग लगा ली है, जल्दी बाहर आओ।

अमित का कहना था कि पूजा अपने खिलाफ दर्ज FIR की वजह से तनाव में थी

अमरीन ने भी पुलिस को दिए बयान में बताया कि वह मानसिक तौर पर परेशान थी

दर असल हुआ ये था की वेब पोर्टल के लिये पूजा ने ९ मार्च २०१६ को एक झोलाछाप डॉक्टर- धवल सिंह पर स्टिंग किया था । कन्या भ्रूण हत्या के खिलाफ इस स्टिंग ओपरेशन में पूजा के दोस्त अनुज मिश्रा ने उनका साथ दिया था स्टिंग में दावा किया गया था की शहर के नामी गिरामी डॉक्टर झोला छाप डॉक्टरों की मदद से कन्या भ्रूण हत्या जैसे अपराध को अंजाम दे रहे हैं !

इस स्टिंग में डॉक्टर धवल सिंह ने शहर की जानी मानी गायनाको लोजिस्ट डॉ अर्चना गोयल  का भी नाम लिया था इसके अलावा एक और जाने-  गया माने डॉक्टर रमन कक्कर का नाम भी लिया गया था

इधर 1 अप्रैल को फरीदाबाद में न्यूज़ पोर्टल पर ये खबर लाइव हुई  और उधर 8 अप्रैल को डॉ. अर्चना गोयल और उनके पति डॉ अनिल गोयल ने पूजा व उसके साथी अनुज मिश्रा के खिलाफ ब्लैक मैलिंग और धोखाधड़ी की FIR दर्ज करवा दी !

उन्होंने आरोप लगाया की  पूजा ने स्टिंग रोकने के बदले २ लाख रूपए की मांग की थी ! इस आरोप के बाद पूजा को नौकरी से निलंबित कर दिया गया !

उसके खिलाफ एफआईआर की खबर “जंगल की आग की तरह फैल गई और कई ऑनलाइन समाचार पोर्टल ने उनकी तस्वीर के साथ खबर चलाना शुरू कर दिया”।

पुलिस इस बात का पता लगा रही थी कि पूजा ने आत्महत्या की या उनकी हत्या की गई

इस बीच पूजा के पिता रवि तिवारी की शिकायत पर सूरजकुंड पुलिस ने डॉ. अनिल गोयल, उनकी पत्नी अर्चना गोयल और एक अन्य डॉक्टर के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया ।

पूजा की मुंहबोली भाभी उषा भाटिया  ने इंस्पेक्टर अमित को पूजा की मौत का जिम्मेदार ठहराया था। उन्होंने  पूजा और अमित के रिश्तों को लेकर बताया कि अमित और पूजा काफी लम्बे समय से एक दूसरे के साथ लिव इन में रह रहे थे

उषा का दावा था कि पूजा ने अपने और अमित के रिश्ते के बारे में उसे हर बात बता रखी थी। उषा के कहा इंस्पेक्टर अमित ने खुद को सिंगल बताया था, लेकिन बाद में पूजा को उसके शादीशुदा होने के बारे में पता चल गया था।

पूजा की मौत के बाद अमित पूजा और एक दोस्त भरत के बीच बातचीत का एक ऑडियो टेप भी वायरल हुआ जिससे पता चला कि दोनों में सुसाइड वाले दिन जोरदार बहस हुई थी

घटना के चोथे दिन अमित ने एक suiside नोट पुलिस को दिया !

उसमें लिखा था कि उसके इस कदम के लिए कोई जिम्मेदार नहीं है. डॉक्टर अनिल और अर्चना गोयल भ्रूण हत्या के लिए दोषी हैं. उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए. पूजा ने लिखा था कि ‘बहुत थक चुकी हूं, अब और हिम्मत नहीं’. पूजा ने यह भी लिखा कि ‘कुछ भी बनना मगर पत्रकार मत बनना’

इस suiside नोट में कोई डेट नहीं लिखी थी और न ही उसपर पूजा के हस्ताक्षर थे

इसके बाद इंस्पेक्टर अमित संदेह के घेरे में आ गया

पुलिस ने अमित को अरेस्ट कर लिया । पूछताछ के लिए अमित को चार दिन की रिमांड पर लिया गया

अमित ने जांच टीम को बताया कि एक मई की रात पूजा और उसके बीच किसी बात को लेकर कहासुनी हुई थी। रात करीब एक बजे तक दोनों के बीच विवाद होता रहा। इस बीच पूजा की दोस्त अमरीन खान अपने कमरे में सोने चली गई।

अमित ने बताया कि कुछ देर बाद पूजा भी बाहर निकली और बालकनी की ओर चली गई। उसके पीछे अमित भी बाहर आ गया। अमित कुछ समझ पाता इससे पहले पूजा ने बालकनी से छलांग लगा दी। जिससे पूजा की मौत हो गई।

बाद में पूजा के सुसाइड नोट की लिखावट की फोरेंसिक जांच में उसके सही होने की पुष्टि हुई . सुसाइड नोट पूजा ने ही लिखा था  इस बात का खुलासा पुलिस आयुक्त हनीफ कुरैशी ने किया था

पूजा के पिता रवि तिवारी का कहना था की ये नोट पूजा से जबरदस्ती लिखवाया गया होगा अमित ही पूजा की मौत की वजह है और हम न्याय की लड़ाई के लिए सुप्रीम कोर्ट भी जायेंगे !

ऐसी ही और जानकारी वाली पोस्ट के लिए हमारे YouTube चैनल The Chanakya को सब्सक्राइब कर लें, और हमारे फेसबुक पेज को like करें  !