स्वदेशी और आयुर्वेद के पक्षधर राजीव दीक्षित की मौत कैसे हुई थी ?

3195

द चाणक्य की स्पेशल सीरीज Unsolved पहेली में आज हम बात करेंगे राजीव दीक्षित की रहस्यमयी मौत के बारे में !

राजीव दीक्षित भारत में स्वदेशी और आयुर्वेद के पक्षधर थे इनको बाबा रामदेव के प्रतिद्वंद्वी के तौर पर देखा जाता था !

कई मामलों में वे बहुत विवादास्पद राय रखते थे। अपनी बात और राय की वजह से उन्होंने अपने बहुत दुश्मन बना लिए थे।उनके व्याख्यान लोगों को स्वदेशी बना रहे थे जो विदेशी कंपनियों को सहन नहीं हो रहा था ! ३० नवम्बर २०१० को भिलाई के बी एस आर अपोलो अस्पताल  में राजीव दीक्षित की मौत हो गयी थी कहा जाता है की जब वह भारत स्वाभिमान यात्रा के लिए लेक्चर देने जा रहे थे तो उन्हें दिल का दौरा पडाऔर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया जहाँ उनकी मौत हुई  उनकी मृत्यु के बाद कोई पोस्टमार्टम नहीं किया गया, कोई जांच नहीं की गयी जबकि उनका पूरा शरीर काला-नीला पड़ गया था, इससे अंदेशा था कि उन्हें जहर दिया गया हो।

उनके शव को हरिद्वार में रामदेव के पतंजलि आश्रम ले जाया गया और वहीं उनकी अंत्येष्टि कर दी गई उनके परिवार ने मौत पर संदेह जताया था और प्रधानमंत्री कार्यालय से भी संपर्क किया था !

तमाम मीडिया भी उनकी मौत पर चुप रही, किसी ने उनकी मौत पर कोई रिपोर्टिंग नहीं की। जबकि वो एक क्रांतिकारी वक्ता थे लाखों की संख्या में लोग उन्हें फॉलो करते थे !

राजीव दीक्षित के बारे में उपलब्ध जानकारी के मुताबिक वो साल 2009 में बाबा रामदेव के संपर्क में आए और उन्होंने ही रामदेव को देश की समस्याओं और काले धन वगैरह के बारे में बताया, जिससे रामदेव बहुत प्रभावित हुए और दोनों साथ में काम करने के लिए सहमत हो गए. राजीव के समर्थक दावा करते हैं कि 2009 में भारत स्वाभिमान आंदोलन उन्होंने ही शुरू किया था, जबकि बाबा रामदेव के समर्थक इसे उनकी उपज मानते हैं !

आस्था चैनल पर राजीव दीक्षित और बाबा रामदेव, दोनों के प्रोग्राम टेलीकास्ट किए जाते थे ! दोनों ने कुछ वक्त तक साथ में काम किया ! दोनों साथ ही आस्था और संस्कार जैसे जैसे चैनलों पर आते थे, जिसके बाद दोनों में विवाद होने की बात कही जाती है ! राजीव के कुछ समर्थक दावा करते हैं कि रामदेव राजीव की लोकप्रियता से घबरा गए थे और फिर उन्होंने राजीव के खिलाफ षड़यंत्र किए !

राजीव अपने व्याख्यानों में दावा करते थे कि अमिताभ बच्चन ने उनके साथ बातचीत में ये स्वीकार किया था कि उनकी आंत पेप्सी पीने की वजह से खराब हो गई थी, जिसका बाद में ऑपरेशन हुआ था. राजीव के मुताबिक अमिताभ ने ये भी कहा कि इसी वजह से उन्होंने पेप्सी पीना और इसका प्रचार करना बंद कर दिया !

राजीव कोल्डड्रिंक्स को टॉयलेट क्लीनर का दर्जा देते थे जिसकी वजह से भारत में उनकी बिक्री पर बहुत प्रभाव पड़ा !

राजीव का एक दावा यह भी था कि ममता बनर्जी बीफ खाती हैं. बीफ खाने की वजह से ही ममता ने अटल बिहारी वाजपेयी को धमकी दी थी कि अगर उन्होंने देश में या पश्चिम बंगाल में बीफ बैन कराया, तो वे उनकी सरकार गिरवा देंगी !

इंटरनेट पर इनके राष्ट्रवाद आयुर्वेदऔर स्वदेशी विषयों पर व्याख्यान की ढेरों वीडियो और ऑडियो मौजूद हैं, जिन्हें लोग सुनते हैं और उस पर यकीन करते हैं !

किसी को नहीं पता कि उनकी मौत वास्तव में कैसे हुई।उनकी मौत की वजह दिल का दौरा था या जहर, आज तक यह अनसुलझी पहेली ही है !