क्या हुआ जब हत्यारों ने Google से पूंछा – लाश को ठिकाने कैसे लगायें ?

3254
google-गूगल

कहानी ये है कि दो लोगों ने मिलकर किसी तीसरे की जान ले ली. अब उन्हें समझ नहीं आ रहा था कि लाश का क्या करें तो उन्होंने Google पर सर्च किया कि लाश को ठिकाने कैसे लगाएं और इसी गूगल सर्च हिस्ट्री ने हत्यारों को उनके असली ठिकाने यानी सलाखों के पीछे पहुंचा दिया. 

ये घटना मध्यप्रदेश के हरदा जिले की है यहाँ १८ जून को खेडीपुर एरिया में रहने वाली तबस्सुम ने पुलिस को सूचना दी कि उसके पति आमिर की हत्या हो गयी है, लेकिन ये सब कैसे हुआ इस बारे में वो कुछ नहीं जानती थी.

जब पुलिस टीम जांच के लिए वहां पहुँची तो शुरुआत में उन्हें लगा कि वारदात लूट के इरादे से की गयी है, लेकिन घर के अन्दर इतना सब हो गया और वहां मौजूद तबस्सुम को कुछ पता ही नहीं चला ये पुलिस को हजम नहीं हो रहा था, इसलिए  पुलिस को शक हुआ कि इस हत्याकांड में मृतक की पत्नी शामिल हो सकती है.

ये भी पढ़ें Gangster Neeraj Bawana Biography in Hindi । नीरज बवाना कैसे बना दिल्ली का DON ?

इसी आधार पर पुलिस ने तबस्सुम की काल डिटेल्स निकाली तो पता चला कि वो लगातार इरफ़ान से बात करती आ रही थी अब पुलिस को उस पर और ज्यादा संदेह हो गया था, इसलिए उन्होंने साइबर सेल की मदद ली.  

जांच में पता चला कि उसके फ़ोन से कुछ कॉल डिटेल्स हटाई गयी थी और इन्टरनेट पर हुई बातचीत को भी डिलीट किया गया था. इसके अलावा जब तबस्सुम की गूगल सर्च हिस्ट्री खंगाली गयी तो पता चला कि उसने गूगल पर हत्या करने और लाश को ठिकाने लगाने के तरीके खोजे थे.

इसके बाद तबस्सुम को हिरासत में लेकर पूंछताछ की गयी तो हत्या की भयानक कहानी सामने आई.

दरअसल ४२ साल का मोहम्मद आमिर महाराष्ट्र में काम करता था और लॉक डाउन की वजह से बापस हरदा आ गया था, लेकिन उसकी गैर मौजूदगी में तीन बच्चों की माँ तबस्सुम की दोस्ती इरफ़ान से हो गयी थी. इरफ़ान हरदा नगर पालिका में राजस्व विभाग में काम करता है.

आमिर महाराष्ट्र से बापस लौटने के बाद तबस्सुम और इरफ़ान के रिश्ते में रोड़ा बन गया था. उसकी मौजूदगी इन दोनों को खटक रही थी इसलिए इन दोनों ने उसे ख़त्म करने का फैसला किया और तबस्सुम ने गूगल पर अपने पति से छुटकारा पाने के तरीके खोजे.  

आमिर अस्थमा का मरीज था इसलिए रोज सोते समय कोई एक दवा खाकर सोता था. आरोप है कि तबस्सुम ने उसकी जगह दूसरी दवा उसे खिला दी जिससे आमिर बेहोश हो गया. आमिर के बेहोश होने के बाद तबस्सुम ने इरफ़ान को बुला लिया दोनों ने दुपट्टे से उसके हाथ पैर बाँध दिए और इरफ़ान ने हथोड़े से आमिर के सिरपर तब तक वार किये जब तक उसकी मौत नहीं हो गयी.

फिलहाल दोनों को पुलिस ने मोहम्मद आमिर की हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है.

इस कहानी के बारे में अपनी राय कमेंट करके जरूर बताइयेगा और ऐसी ही अपराध की सच्ची कहानियों के लिए हमारे YouTube चैनल The Chanakya को सब्सक्राइब कर लीजिये और हमारे फेसबुक पेज को like करें  !