लॉकडाउन में किराया के लिए परेशान करने पर प्लंबर ने की आत्महत्या, मकान मालिक पर FIR दर्ज | chandigarh-city – News in Hindi

1606

[ad_1]

लॉकडाउन में किराया के लिए परेशान करने पर प्लंबर ने की आत्महत्या, मकान मालिक पर FIR दर्ज

गुड़गांव पुलिस ने मामले में कार्रवाई की है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

लॉकडाउन (Lockdown) में मकान मालिकों पर किराये के लिए दबाव बनाने के आरोप लग रहे हैं. हरियाणा (Hariyana) के गुड़गांव (Gurgaon) में भी ऐसा ही एक मामला सामने आया है.

गुड़गांव. कोरोना वायरस (Corona Virus) के संक्रमण के खतरे को देखते हुए पूरे देश में करीब 50 दिन से लॉकडाउन (Lockdown) है. इस बीच सरकार बार-बार मकान मालिकों को किराये से लोगों को राहत देने की अपील की जा रही है. फिर भी कई मकान मालिकों पर किराये के लिए दबाव बनाने के आरोप लग रहे हैं. हरियाणा (Hariyana) के गुड़गांव (Gurgaon) में भी ऐसा ही एक मामला सामने आया है. गुड़गांव में एक प्लंबर का शव उसके कमरे से बरामद किया गया है. शव के पास ही जहर की सीसी रखी थी. प्रथम दृष्टिया पुलिस इसे आत्महत्या मान रही है.

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक मूलत: ओडिशा के रहने वाले 45 वर्षीय प्रवासी मधुसेन मिश्रा गुड़गांव में प्लंबर का काम करते थे. गुड़गांव से प्रकाशित द इंडियन एक्सप्रेस की एक खबर के मुताबिक बीते 18 मई की सुबह करीब 6 बजे मधुेसेन का शव पड़ोसियों ने देखा और इसके बाद पुलिस को सूचना दी. पुलिस से मामले की लिखित शिकायत करने वाले ने बताया कि ‘मधुसेन ने मुझे बताया था कि मकान मालिक बार-बार किराया मांग रहा था और उस पर दबाव डाल रहा था’

..तो मकान मालिक को बुलाया
शिकायतकर्ता के मुताबिक एक पड़ोसी ने कहा कि जब उसे मधुसेन के कमरे के दरवाजे पर दस्तक देने के बाद कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली, तो उसने मकान मालिक और अन्य किरायेदारों को बुलाया. उन्होंने खिड़की की ग्रिल को तोड़ा और अंदर से दरवाजे की कुंडी खोलने में कामयाब रहे. इसके बाद जहर की सीसी के बगल में मिश्रा का शव पड़ा देखा गया.एफआईआर दर्ज

खबर के मुताबिक गुड़गांव के शिवाजी नगर पुलिस स्टेशन के एसएचओ, इंस्पेक्टर अशोक कुमार ने बताया- ‘पुलिस ने मकान मालिक के खिलाफ आईपीसी की धारा 306 (आत्महत्या के लिए उकसाना) के तहत एफआईआर दर्ज की है. जांच जारी है, लेकिन हमने अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं की है. हमने पीड़ित परिवार को जानकारी दे दी है, लेकिन वे कोरोनो वायरस के संक्रमण के खतरे और लॉकडाउन के कारण शव का फिलहाल ले जाने में असमर्थ हैं. एसएचओ ने कहा, मधुसेन के परिवार ने दावा किया कि वह 20 साल पहले घर से भाग गया था और तब से मुश्किल से उनके संपर्क में था.’

ये भी पढ़ें:
एक आम के लिए दबंगों ने 2 बच्चियों को बनाया बंधक, पिटाई की और गर्म लोहे से दागा!

ये भी पढ़ें- खट्टर ने ठुकराया नीतीश का खर्च देने का प्रस्ताव, पढ़ें चिट्ठी की मुख्य बातें

[ad_2]

Source link